लव के रूप | मैं प्यार करती

मैं तुमसे बहूऊऊऊऊऊऊत् प्यार करती हूँ .
मैं कुछ भी नहीं तुम्हारे बिना !
मुझमे क्या कमी है की वो प्यार नहीं करती !
मैं तुम्हे पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता हूँ !
मैं तुमपे जान देती हूँ , क्या तुम्हे एक बार भी मुझसे लव नहीं हुआ ,क्या तुमने एक पल के लिए भी मुझसे प्यार नहीं किया ?
क्या तुम कभी लाइफ में एक बार मुझे याद करोगे ?
क्या तुम्हे कभी लगेगा की मैं तुम्हारे लिए सही था ?
तुम्हे मुझसे अच्छा कोई नहीं मिल सकता दुनिया में , तुम्हे मुझसे ज्यादा प्यार करने वाला नहीं मिल सकता
अगर मैंने इतनी मेहनत इतने दिल से भगवान् को बुलाया होता , तो वो मेरे पास आ जाते !
तुम्हे मैं बहुत खुश रखूँगा !
मैं हर वक्त ये ही सोचता हूँ की इस वक्त तुम क्या सोच रहे होगे , कैसा फील कर रहे होगे !
मैं तुम्हे हर पल मिस करती ह
जब तुम मेरे पास होती हो , उस पल मैं बहुत खुश रहता ह !
मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ !
तुम अगर मिल जाओ , तो मैं दुनिया बदल सकता हूँ
मैं तुम्हारी साँसे फील कर सकती हूँ
क्या तुम्हे मुझपे बिल्कुल तरस नहीं आता ? इतना मत तडपाओ , की एक दिन मुझे अपने आपसे नफरत हो जाए !
तुम इतना मना मत करो मुझे , इतना इग्नोर मत करो मुझे , की मैं तुमसे नफरत करने लगूँ एक दिन
एक बार मेरी आंखों में देखो , क्या तुम्हे एक पल भी नहीं लगता की मैं प्यार करती / करता हूँ
क्या मेरी आंखो में तुम्हे प्यार नहीं दिखता ?
हम कई जन्मों से साथ साथ हैं
काश तुम समझ सकते मुझे

2 Responses to “लव के रूप | मैं प्यार करती”

  1. imranahmad Says:

    मैं तुमसे बहूऊऊऊऊऊऊत् प्यार करती हूँ .
    मैं कुछ भी नहीं तुम्हारे बिना !
    मुझमे क्या कमी है की वो प्यार नहीं करती !
    मैं तुम्हे पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता हूँ !
    मैं तुमपे जान देती हूँ , क्या तुम्हे एक बार भी मुझसे लव नहीं हुआ ,क्या तुमने एक पल के लिए भी मुझसे प्यार नहीं किया ?
    क्या तुम कभी लाइफ में एक बार मुझे याद करोगे ?
    क्या तुम्हे कभी लगेगा की मैं तुम्हारे लिए सही था ?
    तुम्हे मुझसे अच्छा कोई नहीं मिल सकता दुनिया में , तुम्हे मुझसे ज्यादा प्यार करने वाला नहीं मिल सकता
    अगर मैंने इतनी मेहनत इतने दिल से भगवान् को बुलाया होता , तो वो मेरे पास आ जाते !
    तुम्हे मैं बहुत खुश रखूँगा !
    मैं हर वक्त ये ही सोचता हूँ की इस वक्त तुम क्या सोच रहे होगे , कैसा फील कर रहे होगे !
    मैं तुम्हे हर पल मिस करती ह
    जब तुम मेरे पास होती हो , उस पल मैं बहुत खुश रहता ह !
    मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हूँ !
    तुम अगर मिल जाओ , तो मैं दुनिया बदल सकता हूँ
    मैं तुम्हारी साँसे फील कर सकती हूँ
    क्या तुम्हे मुझपे बिल्कुल तरस नहीं आता ? इतना मत तडपाओ , की एक दिन मुझे अपने आपसे नफरत हो जाए !तुम इतना मना मत करो मुझे , इतना इग्नोर मत करो मुझे , की मैं तुमसे नफरत करने लगूँ एक दिन
    एक बार मेरी आंखों में देखो , क्या तुम्हे एक पल भी नहीं लगता की मैं प्यार करती / करता हूँ
    क्या मेरी आंखो में तुम्हे प्यार नहीं दिखता ?
    हम कई जन्मों से साथ साथ हैं
    काश तुम समझ सकते मुझे

    Posted in अजब दुनिया, कविता, कहानी, चुटकुल, फिल्म, मोहब्बत, लड़की, शिप्रा द्वारा, शेर-शायरी, संगीत, समाचार.
    One Response to “लव के रूप | मैं प्यार करती”
    arvind jaiswal wadrafnagar Says:
    September 5, 2008 at 10:43 am
    hi arvind jaiswal


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: